8 hours ago

    अवसाद का आनंद : जीवनी-लेखन का मानक

      सविता श्रीवास्तव वाराणसी-निवासी कालजयी महाकवि जयशंकर प्रसाद के पार्थिव निधन के 85 सालों बाद रज़ा फ़ाउंडेशन, दिल्ली ने पहली…
    3 days ago

     दूरदर्शिता

      अब तक आपने पढ़ा: उभरते हुए नेता, मंडल जी के गाँव में दो विद्यार्थी गरीबी के कारण के बारे…
    5 days ago

    कथा-संवेद – 21

      इस कहानी को आप कथाकार की आवाज में नीचे दिये गये वीडियो से सुन भी सकते हैं:   …
    1 week ago

    घाघ की कविताई बजरिए स्वराज आश्रम…

      लोक कवि घाघ से प्रथम परिचय – दर्जा पाँच में घाघ की कुछ पंक्तियाँ मिली थीं – ‘छोटी सींग…
    3 weeks ago

    हिन्दी में छायावाद : काव्य-स्वातन्त्र्य

      पद्मश्री पं. मुकुटधर पांडेय एक ओर कविता अपनी जन्मकुटीर से निकलकर बाहर पैर रखती है, दूसरी ओर उसे नियमों…
    4 weeks ago

    धारा 51, 52, 54

      अब तक आपने पढ़ा : कभी अपनी जमीन बेचने को मजबूर मंडल जी अब एक उभरते हुए नेता हैं।…
    June 1, 2022

    संघर्ष की जद्दोजहद और सौंदर्य की चाहत (लाल पान की बेगम)

      सुप्रसिद्ध चित्रकार नंदलाल बोस का चर्चित चित्र ‘दो मुर्गों की लड़ाई’ देख कर रेणु जी को लगा था कि…
    May 31, 2022

    धारा 51 52 57 

      अब तक आपने पढ़ा : कभी अपनी जमीन बेचने को मजबूर, मंडल जी अब एक उभरते हुए नेता हैं।…
    May 26, 2022

    ऑल राउंडर मास्टर जी

      अब तक आपने पढ़ा गरीबी के कारणों पर शोध के लिए आए हुए विद्यार्थियों को लेकर मंडल जी ने…
    May 14, 2022

    मिड डे मील

      पिछले अंक में आपने पढ़ा साधारण किसान से सफल नेता बने मंडल जी से पत्रकार के आगे अपने अतीत…

    कथा संवेद

    • कथा-संवेद – 21

      कथा-संवेद - 21

        इस कहानी को आप कथाकार की आवाज में नीचे दिये गये…

    • कथा संवेद – 20

        इस कहानी को आप कथाकार की आवाज में नीचे दिये गये…

    • कथा-संवेद – 19

        इस कहानी को आप कथाकार की आवाज में नीचे दिये गये…

    फणीश्वर नाथ रेणु

    Back to top button